पुस्तक खोज (उर्फ DieBuchSuche) - सभी पुस्तकों के लिए खोज इंजन.
हम अपने सबसे अच्छा प्रस्ताव - के लिए 100 से अधिक दुकानों में कृपया इंतजार देख रहे हैं…
- शिपिंग लागत के लिए भारत (संशोधित करें करने के लिए GBR, USA, AUS, NZL, PHL)
प्रीसेट बनाएँ

9788173152771 - के लिए सभी पुस्तकों की तुलना हर प्रस्ताव

संग्रह प्रविष्टि:
9788173152771 - ATAL BIHARI VAJPAYEE: MERI SANSADIYA YATRA - I(Hindi) - पुस्तक

ATAL BIHARI VAJPAYEE (?):

MERI SANSADIYA YATRA - I(Hindi) (2014) (?)

डिलीवरी से: संयुक्त राज्य अमेरिकायह एक किताबचा पुस्तक हैनई किताब
ISBN:

9788173152771 (?) या 8173152772

, अज्ञात भाषा, Prabhat Prakashan, किताबचा, नई
Printed Pages:515
कीवर्ड: MERI SANSADIYA YATRA - IATAL BIHARI VAJPAYEE9788173152771
डेटा से 06.03.2017 00:59h
ISBN (वैकल्पिक notations): 81-7315-277-2, 978-81-7315-277-1
संग्रह प्रविष्टि:
9788173152771 - Atal Bihari Vajpayee: Meri Sansadiya Yatra-I(Hindi) - पुस्तक

Atal Bihari Vajpayee (?):

Meri Sansadiya Yatra-I(Hindi) (2014) (?)

डिलीवरी से: भारतयह एक किताबचा पुस्तक हैनई किताब
ISBN:

9788173152771 (?) या 8173152772

, अज्ञात भाषा, Prabhat Prakashan, किताबचा, नई
प्लस शिपिंग, शिपिंग क्षेत्र: INT
Printed Pages: 515. Paperback
कीवर्ड: MERI SANSADIYA YATRA-IATAL BIHARI VAJPAYEE9788173152771
डेटा से 06.03.2017 00:59h
ISBN (वैकल्पिक notations): 81-7315-277-2, 978-81-7315-277-1
संग्रह प्रविष्टि:
9788173152771 - ATAL BIHARI VAJPAYEE: MERI SANSADIYA YATRA - I(Hindi) - पुस्तक

ATAL BIHARI VAJPAYEE (?):

MERI SANSADIYA YATRA - I(Hindi) (2014) (?)

डिलीवरी से: भारतयह एक किताबचा पुस्तक हैनई किताब
ISBN:

9788173152771 (?) या 8173152772

, अज्ञात भाषा, Prabhat Prakashan, किताबचा, नई
शिपिंग लागत के लिए: IND
Prabhat Prakashan, 2014. Paperback. New. Printed Pages:515
डेटा से 06.03.2017 00:59h
ISBN (वैकल्पिक notations): 81-7315-277-2, 978-81-7315-277-1
संग्रह प्रविष्टि:
9788173152771 - ATAL BIHARI VAJPAYEE: MERI SANSADIYA YATRA - I - पुस्तक

ATAL BIHARI VAJPAYEE (?):

MERI SANSADIYA YATRA - I (?)

डिलीवरी से: भारतनई किताब
ISBN:

9788173152771 (?) या 8173152772

, अज्ञात भाषा, नई
शिपिंग लागत के लिए: IND
New.
डेटा से 06.03.2017 00:59h
ISBN (वैकल्पिक notations): 81-7315-277-2, 978-81-7315-277-1
9788173152771 - Atal Bihari Vajpayee: Meri Sansadiya Yatra - I - पुस्तक

Atal Bihari Vajpayee (?):

Meri Sansadiya Yatra - I (2014) (?)

डिलीवरी से: भारतपुस्तक अंग्रेजी भाषा में हैयह पुस्तक एक hardcover पुस्तक एक पुस्तिका नहीं हैनई किताबइस पुस्तक के प्रथम संस्करण
ISBN:

9788173152771 (?) या 8173152772

, अंग्रेजी में, 502 पृष्ठ, Prabhat prakashan, hardcover, नई, प्रथम संस्करण
511 + शिपिंग: 80 = 591(दायित्व के बिना)
Usually dispatched within 6-10 business days
विक्रेता/Antiquarian से, A1webstores
भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 15 अगस्त, 1998 को ऐतिहासिक लाल किले की प्राचीर से राष्‍ट्र को संबोधित करते हुए कहा था- ' एक गरीब स्कूल मास्टर के बेटे का भारत के प्रधानमंत्री के पद तक पहुँचना भारतीय लोकतंत्र की मजबूती का प्रतीक है ' पिछली अर्द्धसदी से भी अधिक समय से स्वयं श्री वाजपेयी भारतीय लोकतंत्र को मजबूत करने में अपना रचनात्मक योगदान देते रहे हैं श्री वाजपेयी संसद में रहे हों या संसद के बाहर, भारतीय राजनीति को प्रभावित करते रहे हैं श्री वाजपेयी का बोला हुआ हर शब्द खबर माना जाता रहा है उनके भाषण मित्रों द्वारा ही नहीं, राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा भी गंभीरता से सुने जाते हैं भारतीय जीवन से जुड़े प्रत्येक पहलू पर पूरे अधिकार के साथ बोलना वाजपेयीजी के लिए सहज-संभव-साध्य रहा है उनकी उदार दृष्‍ट‌ि और तथ्यपरक आँकड़े लोगों को मानसिक स्तर पर संतुष्टि देते रहे हैं । उनकी सोच हरदम रचनात्मक और देश-हित में सबसे बेहतर विकल्प तलाशने व उद्घाटित करनेवाली रही है । उनका सबसे बड़ा योगदान ' संसद में संवाद ' की स्थिति बनाए रखना, उसके स्तर को ऊँचा उठाना माना जाता है । श्री वाजपेयी का चिंतन दूरगामी है । देश-हित उनके लिए सर्वोपरि है । यह तथ्य इन भाषणों को पढ़कर पाठकों के सामने बार-बार उजागर हो आता है । अगर उनके समसामयिक प्रस्ताव, योजनाएँ आशंकाएँ पूरी गंभीरता से स्वीकारी जातीं, उन्हें अमल में लाया जाता, तो देश की दशा इस तरह चिंता का विषय न बनी होती; इसका भी अनंत बार आभास इन भाषणों को पढ़कर होता है । अपने प्रधानमंत्रित्व काल में श्री वाजपेयी की राष्‍ट्रीय प्राथमिकताएँ क्या हैं और उनको पूरा करने की योजनाएँ क्या हैं, यह भी प्रधानमंत्री के रूप में अब तक संसद में दिए गए उनके कुछ थोड़े से भाषणों से स्पष्‍ट हो जाता है । ' मेरी संसदीय यात्रा ' के इन चार खंडों में चालीस से भी अधिक वर्षों में श्री वाजपेयी द्वारा संसद में दिए गए भाषण कालक्रम और विषयवार संकलित हैं । इन संकलनों में लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री के रूप में किया गया राष्‍ट्रीय उद्बोधन, संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ महासभा में दिए गए महत्त्वपूर्ण भाषण, अंतरराष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग के न्यूयॉर्क सम्मेलन में दिया गया भाषण, श्री वाजपेयी को ' सर्वश्रेष्‍ठ सांसद सम्मान ' समर्पण समारोह अवसर के सभी भाषण और श्री वाजपेयी का आधार भाषण भी संकलित हैं ।, hardcover, संस्करण: 1ST, लेबल: Prabhat prakashan, Prabhat prakashan, उत्पाद समूह: Book, प्रकाशित: 2014-01-01, स्टूडियो: Prabhat prakashan, बिक्री रैंक: 58221
अधिक…
मंच क्रम संख्या Amazon.in: FSj5QPskDL1SEj33EJjEw3Ssb0HXfYH75h96x%2Fb9C8kQt0ovp9y4Bu5mMK%2FiCvRyivU9z5UlzQdxK2G1yP1dKaKrwpmT%2Fx6Ih%2BiCG9JcI75zEad5phvm7s4djVAaUgJP%2BdAnYQ6jTcpwn1EtF2301kFEdpckh2pL
कीवर्ड: Action & Adventure, Arts, Film & Photography, Biographies, Diaries & True Accounts, Business & Economics, Children's & Young Adult, Comics & Mangas, Computing, Internet & Digital Media, Crafts, Home & Lifestyle, Crime, Thriller & Mystery, Exam Preparation, Fantasy, Horror & Science Fiction, Health, Family & Personal Development, Historical Fiction, History, Humour, Language, Linguistics & Writing, Law, Literature & Fiction, Maps & Atlases, Politics, Reference, Religion, Romance, Sciences, Technology & Medicine, Society & Social Sciences, Sports, Textbooks, Travel, Books
डेटा से 06.03.2017 00:59h
ISBN (वैकल्पिक notations): 81-7315-277-2, 978-81-7315-277-1

9788173152771

सभी उपलब्ध पुस्तकों के लिए अपना ISBN नंबर मिल 9788173152771 तेजी से और आसानी से कीमतों की तुलना करें और तुरंत आदेश।

उपलब्ध दुर्लभ पुस्तकें, प्रयुक्त किताबें और दूसरा हाथ पुस्तकों के शीर्षक "MERI SANSADIYA YATRA - I(Hindi)" से ATAL BIHARI VAJPAYEE पूरी तरह से सूचीबद्ध हैं।

plano 1119 koppmedien